Category: poetry

0

माँ तेरे आँचल से दूर हुआ तो बेज़ार हो गया मैं

By Juhi Jha Prasar Rahi गुलों के बीच से जो उठा तो ख़ार हो गया मैं माँ तेरे आँचल से दूर हुआ तो बेज़ार हो गया मैं   हुनर अक़्ल...

1

आओ तुमको सफर ए औरत पर ले चलूँ

तुम को सैर कराऊँ मैं एक बला की, आओ तुमको सफर ए औरत पर ले चलूँ, तुम छोड़ो यार सदियों का खूबसूरत फ़लसफ़ा, आओ तुमको सच्चे सफर पर ले चलूँ,...

Amrita Pritam 0

अमृता प्रीतम की रचनाएँ बनी औरतों की आवाज़

अमृता कौर प्रीतम हिन्दी व पंजाबी साहित्य जगत का एक ऐसा नाम जिसने अपनी लेखनी के द्वारा नारी सामर्थ्य का एक इतिहास रचा. समाज की रूढ़िवादी कट्टरता और आडम्बरों के...

0

मेरा वतन महान है

  तिरंगा जिसकी शान है, हर भारतीय की जान है, वही तो हिन्दोस्तान है, मेरा वतन महान है.     उगलती है ज़मीं जहां पे सोना चाँदी मोतियाँ    महक रही है...