Category: poetry

0

शुरुआत अभी से करें

  “कल करे सो आज करे ,आज करे सो अब पल में परलय होवेगी,बहुरी करेगा कब “ इन पंक्तियों को लिखने से पहले कबीर किन अनुभवों से गुजरे होंगे, ये...

0

वो लाडली की लाडली थी

वो लाडली की लाडली थी, पर वो बेटी थी वो हाँथ ही था कुचला सा वो पुतला, सड़क के किनारे, कूड़े के ढेर में वो हाँथ ही था थीं अंगुलियाँ...

zindagi-shairy 0

ज़िन्दगी

एक वक्त को जाम ख़ाली हुआ भी तो क्या, ज़िन्दगी साख़ी बन कर सागर थाम लाई भी तो होगी एक वक्त को रात का अंधेरा आया भी तो क्या, ज़िन्दगी...